नाना पाटेकर ने किसानों की मदद के लिए लगाई सरकार से गुहार

नाना पाटेकर बॉलीवुड के उन अभिनेताओं में से हैं जिनपर कभी भी बॉलीवुड की चमक धमक और शोहरत हावी नहीं हो पाई। वो आज भी अपनी माँ के साथ एक छोटे से फ्लैट में रहते हैं और किसानों कि मदद के लिए हमेशा तैयार रहते हैं जिसके चलते नाना पाटेकर और मकरंद अनासपुर ने ‘नाम फाउंडेशन’ की शुरुआत की है जिसमें वो उन किसानों के परिवार वालों की मदद करते हैं जिन्होंने आत्महत्या कर ली है। नाना का मानना है की भारत देश में किसानो कि स्थिति  सुधारना बहुत ज़रूरी है। जिसके लिए वो समय समय पर कदम उठाते रहते हैं ऐसा ही कुछ उन्होंने हाल में ही किया।

इस बार नाना पाटेकर महाराष्ट्र के किसानों के समर्थन में आ गए हैं। महाराष्ट्र में किसानों की हड़ताल को आज सात दिन हो चुके हैं। ऐसे में एक्टर नाना पाटेकर और मकरंद अनासपुर किसानों के समर्थन में उतर आए हैं। महाराष्ट्र में कर्ज माफी और फसल के कम से कम मूल्य की मांग को लेकर पिछले कई दिनों से किसान हड़ताल पर हैं। जिसके लिए नाना ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि महाराष्ट्र सरकार को किसानों के साथ न्याय कर उनकी मदद करनी चाहिए और कर्ज कम करने पर भी विचार करना चाहिए जिससे की राज्य में किसानों की आत्महत्या की दर कम हो सके।

इसके साथ नाना ने ये भी कहा कि किसानों को आंदोलन और हड़ताल करनी पड़ रही है जो कि बहुत ही दुख की बात है। नाना का कहना है कि सभी क्षेत्रों के लोगों को किसानों की मदद के लिए आगे आना चाहिए। बता दें कि पहले भी कई बार नाना किसानों की मदद के लिए आगे आ चुके हैं। भारत को कृषि प्रधान देश कहा जाता है जहां अर्थव्यवस्था का एक बहुत बड़ा हिस्सा कृषि पर ही निर्भर है। फिर भी यहाँ किसान आत्महत्या करता है क्योकि क़र्ज़ और कम दर ने किसानों कि कमर तोड़ रखी है। साल भर कड़ी मेहनत करने वाला अन्नदाता ही अगर जान दे दे तो क्या तरक्की करेगा देश। इसी वजह से आज लोग खेत बेच कर खेती छोड़ रहे हैं अगर ऐसा ही चलता रहा तो एक दिन हमे कंक्रीट और ईंटों से भरी इन इमारतों से ही देश का पेट भरना पड़ेगा या फिर अन्य देशो पर निर्भर होना होगा।