मूवी रिव्यू: रूटिन मसाला  भोजपुरी फिल्म ‘सरकार राज’

रेटिंग**

इंडिया ई कॉमर्स लि. द्धारा निर्मित और अरविन्द चौबे द्धारा निर्देशित भोजपुरी फिल्म ‘सरकार राज’ अन्य भोजपुरी फिल्मों की तरह एक मसाला फिल्म है।

पवन सिंह और मोनालिसा के बीच प्रेम है लेकिन उसके  नेता पिता जिन्हें सरकार कहा जाता है और भाई इस रिश्ते को नहीं चाहते । आगे चुनाव जीतने के लिये वे अपनी बेटी तक को दांव पर लगाने से नहीं चूकते लेकिन इस बीच पवन को पता चल जाता हैं लिहाजा वो मोनालिसा से शादी कर उसके पिता और भाई द्धारा बनाई की स्कीम पर पानी फेर देता  है। पवन के लोग उसे सरकार के खिलाफ चुनाव में खड़ा होने के लिये प्रेरित करते हैं लेकिन उसके पास चुनाव लड़ने के लिये पैसा नहीं हैं लिहाजा जब एक मौंकापरस्त नेता धुरंदर सिंह उसे ऑफर देता है कि अगर वो उसे चुनाव में सपोर्ट करे तो वो पैसा खर्च करने के लिये तैयार है । पवन उसका पैसा लगवा कर खुुद चुनाव लड़ता है और भारी मतो से जीत कर सरकार को हरा देता है । इसके बाद धुरंदर का असली चेहरा सबके सामने आता है और वो अपने गुनाहों की सजा पाता है ।

सरकार राज भी भोजपुरी की अन्य उन फिल्मों में शमिल हैं जिनमें मनोरंजन के नाम पर उनके गीत संगीत में खूब अष्लीलता का सहारा लिया जाता है । फिल्म के जंहा कई गानों के शब्द नंगे हैं वहीं उनसे कहीं ज्यादा नंगे कोरियोग्राफर किये हुये हीरो हीरोइन के डांस स्टैप्स हैं जो दर्शकों को अश्लील सिसकारियां लेने और सीटियां मारने पर मजबूर करते हैं । फिल्म कथा पटकथा तथा संवाद साधारण हैं । जबकि फिल्म में मोनालिसा के अलावा रानी चटर्जी, अक्सरा सिंह तथा काजल राघवानी आदि अभिनेत्रीयों के आइटम सांग्स हैं ।

पवन सिंह तथा मोनालिसा रूटिन भूमिकाओं में हैं जंहा उनके अलग करने के लिये कुछ भी नहीं। इसी तरह फिल्म के नगेटिव  किरदार जय सिंह और जसवंत सिंह भी जौर जौर से हंसने और संवाद बोलने के अलावा कुछ नहीं कर पाते ।

फिल्म देखने के बाद आसानी से कहा जा सकता है कि  ये फिल्म  भी अन्य रूटिन भोजपुरी मसाला फिल्मों में से एक है ।