आलिया भी इन एहसासों से गुजरती है

आलिया भट्ट को फिल्म इंडस्ट्री में सब ‘हिट मास्टर’ कहने लगे हैं क्योंकि अपनी पहली फिल्म ‘स्टूडेंट ऑफ द इयर’ से लेकर हाल की फ़िल्म ‘बद्रीनाथ की दुल्हनिया’ तक आलिया एक के बाद एक हिट्स  देती रही है। लोगों का तो यह भी मानना है कि अब आलिया के मन में अपनी किसी भी फिल्म के रिलीज से पहले कोई डर नहीं रह गया है। लेकिन आलिया इन बातों को अहमियत नहीं देती है। पूछने पर वे कहती है, “पिछले चार-पांच वर्षों के अपने करियर के दौरान मैं इन बातों की आदी हो चुकी हूं। दरअसल जब हम अपनी किसी फिल्म के प्रमोशन में व्यस्त होते हैं, तब भाग- दौड़ और लाइव परफॉर्मेंस के कारण हम फिल्म के पोस्ट रिलीज रिजल्ट के बारे में सोच नहीं पाते, लेकिन जब प्रमोशन की भगदड़ खत्म हो जाती है और फिल्म रिलीज होने के मुहाने पर होती है, तब दिल में फड़फड़ाहट होने लगती है, साथ ही नर्वसनेस भी होती है, यह चिंता लगी रहती है कि दर्शकों के अपेक्षाओं पर खरी  उतरूंगी या नहीं। इसी तरह किसी फिल्म के प्रथम दिन की शूटिंग पर भी पेट में तितलियाँ उड़ती है। मुझे याद है एक बार शाहरुख खान ने भी ‘डियर जिंदगी’के  रिलीज से पहले मुझे मैसेज में यह लिखा था, “मुझे पता है कि किसी फिल्म के रिलीज से पहले एक्टर को कैसा महसूस होता है, उसे काफी अकेलापन लगता है। सारी भगदड़ खत्म होने के बाद की ख़ामोशी और फिर सब खाली सा लगता है।” वाकई शाहरुख ने कितनी खूबसूरती से बयां किया इस एहसास को। तब मुझे महसूस हुआ कि ऐसा सिर्फ मेरे साथ ही नहीं होता, बड़े बड़े सुपरस्टार भी अपनी फिल्म के रिलीज से पहले ऐसा ही फील करते हैं, यानी फिल्म के लिए सब कुछ करने के बाद दर्शकों के सुपुर्द करके उनका रिएक्शन देखना- – –“। खैर, अब जब बद्रीनाथ की दुल्हनिया हिट हो गई है तो  आलिया अपनी अगली फिल्में ‘ड्रेगन’ और ‘गली बॉय’ की तैयारी में व्यस्त हो गई।