अलका याग्निक

अलका याग्निक को जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाए

आज बॉलीवुड की उस सिंगर का जन्मदिन है। जिसने तब अपना करियर बनाया जब बॉलीवुड में लता, आशा और अनुराधा पौडवाल जैसी गायिका मौजुद थी ।वो थी ब्लैबक सिंगर अलका याज्ञनिक, अलका का जन्म 20 मार्च 1966 को गुजराती हिन्दु परिवार में हुआ था। उनकी मां शुभा याज्ञनिक भी भारतीय शास्त्रीय संगीत की पार्श्वगायिका थी। अलका ने अपनी स्कूलिंग मॉडर्न हाई स्कूल से की।अलका याज्ञनिक की शादी 1989 में नीरज कपूर से हुई और उनकी अब एक ही बेटी है सायेशा कपूर।

अलका को बचपन से सिंगिंग का बहुत शौक था। साल 1972 में जब वह छह साल की थी तभी उन्होंने  आकाशवाणी कोलकाता के लिये गाना गया था। जब वह दस साल की हुई तो उनकी मां उन्हें मुंबई ले आई। यहां वह राजकपुर से मिली। राजकपूर ने उन्हें लक्ष्मीकांत से मिलने को कहा। लक्ष्मीकांत अलका से मिलकर काफी प्रभावित हुये। फिर अलका ने बॉलीवुड में अपने करियर की शुरुआत फिल्म ‘पायल की झंकार’ (1980) से शुरु की। इसके बाद फिल्म ‘लावारिश’ (1981) में “अलका ने मेरे अंगने में  तुमहारा का क्या काम है” गाया। इसके बाद फिल्म “हमारी बहू अलका’ (1982) में भी उनकी आवाज सुनाई दी। लेकिन बॉलीवुड में अलका याग्निक को पहचान मिली फिल्म ‘तेजाब’ में जब अलका के गाये गीत ‘एक दो तीन’ ने बॉलीवुड में सफलता का परचम लहरा दिये। इस गीत के लिये उन्हें ‘फिल्मफेयर बेस्ट फिमेल प्लेबैंक सिंगर’ का पुरस्कार हासिल हुआ। इसके बाद तो अलका ने बॉलीवुड में एक से बढ़कर एक कई सुपहरिट गीत गाये।  वो अब तक 2,485 हिंदी सांग्स 1,114 फिल्मों के लिए गीत गा चुकी है। उनमें खासकर कुमार सानू और उदित नारायण के साथ उनकी जोड़ी खूब जमीं।  उन्होंने हिन्दी के अलावा भी कई भाषाओं में गाने गाये । अलका ने छोटे पर्दे पर भी अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज कराई है। अलका के अब तक के कुछ खास गीत इस प्रकार हैं: उमराओ जान – सलाम, पूछ रहे हैं ,बाबुल – गया रे मनन ,कभी अलविदा ना कहना – कभी अलविदा ना कहना, तुम्ही देखो ना, स्वदेस – सांवरिया सांवरिया, हम तुम – हम तुम, मुझसे शादी करोगी – लाल दुपट्टा, कल हो ना हो – कुछ तो हुआ है, तेरे नाम – ओढ़नी,चलते चलते – तौबा तुम्हारे ये इशारे , राज़ – आपके प्यार में ,मुझसे दोस्ती करोगे! – जाने दिल में कब से,  कसूर- कितनी बेचैन होके, दिल चाहता है – जाने क्यों लोग प्यार करते हैं, लज्जा – बड़ी  मुश्किल धड़कन – दिल ने यह कहा दिल से, ज़ुबैदा – मेहँदी है रचनेवाली, है ना कहो ना … ,प्यार है – कहो ना प्यार है, हम दिल दे चुके सनम – चाँद छुपा, ताल – ताल से, डुप्लीकेट – मेरे मेहबूब मेरा सनम, कुछ कुछ होता है- कुछ कुछ होता है आदि।